18 December 2017, Mon

खुजराहो में मानवीय सौंदर्य का सतत नृत्य

Created at March 12, 2015

खुजराहो में मानवीय सौंदर्य का सतत नृत्य
Updated at March 12, 2015
 

कलाओं की जीवंत अभिव्यक्ति है खजुराहो। कोई एक कला नहीं, कलाओं का समग्र वहां जो है! शिल्प संयोजन में जीवन से जुड़े सरोकारों की संगत! पाषाण में जीवन की लय! संगीत, नृत्य में ध्वनित होते पाषाण। हां, मिथुन मूर्तियां भी वहां है…, पर खजुराहो का सच वही नहीं है। सच है कलाओं का मेल। आप मूर्तियां देखते हैं, देखते देखते औचक जहन में तमाम कलाओं का संयोजन, शिल्प पूर्णता को अनुभूत करने लगते हैं।
बहरहाल, मध्यप्रदेश का संस्कृति विभाग पिछले चार दशकों से निरंतर खजुराहो नृत्य उत्सव का आयोजन करता आ रहा है। इस बार कलाओं के अंर्तसंबंधों पर बोलने के लिए आमंत्रित हुआ तो खजुराहो में बिखरे शिल्प वैभव को भी जैसे गहरे से जिया। व्याख्यान से एक दिन पहले अल्लाउद्दीन खां संगीत अकादमी के निदेशक और मित्र अनिल कुमार से मंदिरों को देखने की चाह जताता हूं तो वह गाड़ी भेज देते हैं। जल्द तैयार होकर 9 बजे ही निकल पड़ता हूं। पूर्वी, पश्चिमी और दक्षिणी समूह में बंटे हैं मंदिर। देखता हूं, दूर मंदिर से सटे तालाब में लोग नहा रहे हैं। गंदे पानी को और गंदा करते हुए। यहां से आगे बढ़ता हूं। मंदिरों के समूह दिख जाते हैं। यह पश्चिमी समूह के मंदिर हैं। खजुराहो का मूल शिल्प वैभव पश्चिमी समूह के इस मंदिर परिसर में ही है। रत्नजडि़त हार सरीखे मंदिर। अलंकृत। मन को मोहते। पहले मंदिर समूह से पृथक पर उनसे जुड़े मातंगेश्वर महादेव हो आता हूं। आदिकाल से पूजित है यह मंदिर!  हर्षवर्धन द्वारा 9वीं सदी में निर्मित। कहते हैं कभी यहां भगवान राम ने भी पूजा की। अधिष्ठान तक आने के लिए खड़ी सीढिय़ां। शिखर वाले इस मंदिर की दरो-दीवार सौन्दर्य प्रतिमाओं से भरी है। यहां से आगे पुरातत्व विभाग की खिड़की से टिकट ले चंदेल शासकों द्वारा बनाए मंदिर समूह परिसर में प्रवेश करता हूं। वराह मंदिरर्! बलुआ पत्थरों से निर्मित वराह प्रतिमा पर अलंकृत 672 मूर्तियां। सामने लक्ष्मण मंदिर, कंदरिया महादेव, जगदम्बी, चौसठ योगिनी, चित्रगुप्त, विश्वनाथ आदि मंदिरों की दीवारों पर उत्कीर्ण शिल्प, सम्मोहित करता है। लगता है, यहां हरेक कला दूसरी से गूंथी है। चित्र-नृत्य में, नृत्य-संगीत में, संगीत-शिल्प में और ऐसे ही स्थापत्य, नाट्य जैसे एक दूसरे से जुड़े देखने वालों से संवाद करते हुए।
मुझे लगता है, खजुराहो में मंदिरों पर उत्कीर्ण मूर्तियां जगत् वस्तु रूप नहीं, आत्मवस्तुरूप है। कहूं, व्यस्टि और समष्टि को जोडऩे वाली एक संधि रेखा। शिल्प क्या है? चक्षु, भाव और बुद्धि की त्रिवेणी ही तो! मानवीय देह, जीवन से जुड़े प्रसंगों का प्रस्तरण रूपान्तरण कहीं है तो वह यहीं है। यहीं। प्रतिमाओं की सुघड़ता…नैरन्तर्य…क्रमबद्धता…संतुलन! अपार्थिव सौन्दर्य। पाषाणों में है संगीत का माधुर्य। नृत्य का उल्लास। शिल्पी ने जैसे नृत्यरत भंगिमाओं में गति का अंकन किया है। लय अंवेरते। स्त्री-पुरुष। एक-दूसरे में समाते। संगत को ध्वनित करते। मानवीय देह के सूक्ष्म सौन्दर्य रूप! चित्त को संस्कारित करती छवियां-श्रृंखलाबद्ध। मन को उद्वेलित कर कलाओं के रस से ओत-प्रोत करती।
खजुराहो में मूर्तियां नहीं रूप बंध है। कलाओं में बसा है जीवन। स्त्री-पुरुष की देह नहीं-उनके अंग प्रत्यंगों की सौन्दर्य दीठ! औचक संत एकनाथ जेहन में कौंधते हैं, ‘देखणे देखिजे देखणेनीÓ माने देखने जैसा है (सुंदर) उसे देखिए। सौन्दर्य का शिल्प मुहावरा ही तो है खजुराहो की यह प्रस्तर प्रतिमाएं। मिथुन मूर्तियां पर वह भारतीय दृष्टि जिसमें कुंठाओं, दुराग्रहों के त्याग पर बल है। पश्चिम में शरीर या कहें देह को अध्यात्म प्राप्ति की बाधा माना गया है। हमारे यहां ऐसा नहीं है। हमारे यहां कहा गया है, ‘अनंद ब्रöो रूपं तच्य देहे व्यवस्थितम्Ó यानी आनंद ही ब्रह्म का रूप है और वह मनुष्य की देह में अवस्थित है। खजुराहो देह का गान है। देह का दृष्यात्मक संगीत! ऐसी मूर्तियां छत्तीसगढ़ में भोरमदेव मंदिर और कोणार्क में भी देखी है।…और भी यत्र-तत्र देखता रहा हूं पर यहां खजुराहो में प्रस्तर सर्वथा नए सौन्दर्य भव से साक्षात् कराते हैं। रेखाओं और घनाव के मघ्य केवल और केवल चेतना की लय जो यहां है! कलाओं के अंर्तसंबंधों की प्रस्तर व्याख्या कहीं है तो वह खजुराहो में ही है। सोचता हूं, खजुराहो को देखना कलाओं के परस्पर संबंधों को एक तरह से समझना ही तो है।
लेखक कला समीक्षक है।