18 December 2017, Mon

मुख्यमंत्री का नाश्ता और पुलिस की नाक

Created at April 6, 2016

मुख्यमंत्री का नाश्ता और पुलिस की नाक
Updated at April 6, 2016
 

यह बात है जिला अलवर की जहां मैं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के रूप में तैनात था। राजस्थान के मुख्यमंत्री भैरोंसिंह शेखावत ने उस दिन जिला का सघन दौरा किया था। बहरोड की जनसभा के पश्चात मंडावर में एक व्यापारी के यहां उनका नाश्ता रखा गया था। मुख्यमंत्री का भ्रमण हेलीकॉप्टर से था। हर स्थान को कवर करने के लिए एसपी और एडिशनल एसपी द्वारा अल्टरनेट सुपरवीजन करना था। उन दिनों वीआईपी सुरक्षा के हालात आज की तरह संवेदनशील नहीं हुआ करते थे। नाश्ता वाले स्थान पर पुलिस बंदोबस्त सुबह जल्दी लगाए जाने थे। जिला एसपी रात में ही बहरोड पहुंच गए थे ताकि सुबह की जनसभा के पुलिस प्रबंध का जायजा ले सकें।
रात को करीब दो बजे जिला पुलिस कंट्रोल रूम ने सूचना दी कि मंडावर में जिस व्यापारी के घर पर सीएम साहब का नाश्ता रखा हुआ है उस घर में डकैती की वारदात हो गई है। पूरे जिला में सनसनी फैलनी ही थी। एसपी सहित हम सब अधिकारी घटनास्थल के लिए रवाना हो गए। नाकाबंदी, तलाशी, मौका मुआयना वगैहरा की सारी कार्रवाई अपनी तरह से आरम्भ कर दी गई। डकैती जैसी वारदात स्वयं में बड़ी घटना होती है। मगर ऐसी वारदात उस घर में हो जाए जहां %E