21 January 2017, Sat

आखिर ऐसा क्या है जो इस साइंटिस्ट की पोस्ट हुई FB पर वायरल

Created at January 11, 2017

आखिर ऐसा क्या है जो इस साइंटिस्ट की पोस्ट हुई FB पर वायरल
Updated at January 11, 2017
 

नई दिल्ली। फेसबुक पर इन दिनों मशहूर वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग की एक पोस्ट वायरल हो रही है। बता दें कि हॉकिंग ने अनुमान व्यक्त किया था कि दुनिया से मानव सभ्यता अगले हजार सालों में खत्म हो जाएगी। विज्ञान जगत में इस भविष्यवाणी ने खलबली मचा दी थी। करीब 150 शब्दों की इस पोस्ट को एक लाख से ज्यादा लाइक मिल चुके हैं। वहीं करीब सात हजार लोगों ने इस पोस्ट पर अपने कमेंट किए हैं। 8 जनवरी को 75 साल के हुए हॉकिन्स ने लिखा, मैं दुनिया के शानदार वक्त में हूं। मैं खुश हूं कि ब्लैक होल और यूनिवर्स की शुरुआत के बारे में मैंने भी कुछ कहा है। अगर मेरा परिवार और मेरे दोस्त नहीं होते तो ये यूनिवर्स खाली होता मेरे लिए।

 

तब मैं 75 साल का हो गया हूं। मैं सभी को धन्यवाद करता हूं जिन्होंने मुझे सपोर्ट किया। स्टीफन का शरीर काम नहीं करता। 21 साल की उम्र में हॉकिंग को पता चला कि वो मोटर न्यूरॉन डिजीज से पीडि़त हैं। इस बीमारी में शरीर धीरे धीरे काम करना बंद कर देता है। डॉक्टरों ने बताया कि वो दो साल और जी पाएंगे। हॉकिंग लड़ते रहे। देखते ही देखते जीवन के 75 वें बसंत में पहुंच गए। नवंबर 2016 में हॉकिंग ने अनुमान व्यक्त किया था कि दुनिया से मानव सभ्यता अगले हजार सालों में खत्म हो जाएगी। विज्ञान जगत में इस भविष्यवाणी ने खलबली मचा दी थी।

 

हॉकिंग ने मशहूर वैज्ञानिक आइंस्टीन के एक सिद्धांत को बड़े स्तर पर पहुंचाया। ब्रह्मांड की उत्पत्ति और समय की कैसे शुरुआत हुई,इसे समझाया। हॉकिंग के मुताबिक ब्रह्मांड की शुरुआत 1500 करोड़ साल पहले हुई थी। इसका अंत भी तय है। इसकी शुरुआत से पहले समय का कोई अस्तित्व नहीं था। हॉकिंग के इन नए सिद्धांतों के साथ विज्ञान के कई नियमों को नए सिरे से समझना आसान हो गया। आइंस्टीन ने दुनिया को बताया था कि ब्रह्मांड में दो ही चीजेंं। पदार्थ और ऊर्जा। एक प्रकार की ऊर्जा को दूसरे प्रकार में बदला जा सकता है।

 

इसके बाद दुनिया के विज्ञान में ब्रह्मांड को देखने का तरीका बदल गया। बिग बैंग थ्योरी को समझाते हुए हॉकिंग ने बताया कि दुनिया की शुरुआत में सिर्फ दो चीजें थी। एक मैटर और दूसरा एंटी मैटर। फिर एक विस्फोट हुआ,जिसे बिग बैंग कहते हैं। इसके बाद एंटी मैटर कम होता चला गया और मैटर बढ़ता गया। इसी से ब्रह्मांड बना। हॉकिंग के सिद्धांतों पर ही इमैजिनरी टाइम का कॉन्सेप्ट आया। हॉकिंग ने ब्लैक होल के बारे में कई सिद्धांत दिए हैं। आसान भाषा में ब्लैक होल किसी तारे के मरने से पैदा हुई वो चीज है जिसका गुरुत्वाकर्षण इतना ज्यादा होता है कि रोशनी को भी खींच लें। कह सकते हैं कि अगर कोई आदमी ब्लैक होल में खड़े होकर टॉर्च की रोशनी सामने दीवार पर मारे तो रोशनी दीवार पर टकराने से पहले ही जमीन पर गिर पड़ेगी।